Tuesday, August 21, 2012

मेरे शहर की बारिश...

बारिश अपने पूरे श़बाब पर है और मेरा ख़ूबसूरत शहर पूरी जवानी पे। और ये भी तो नहीं हो सकता की बरसात  यूँ ही बीत जाये और उसपे कुछ न लिखें। बस तो मेरी कोशिश इस खूबसूरत मौसम को अपने  अंदाज़ में सहेजने की....

बारिश में,
मेरे शहर की रौनक ही कुछ और होती है।

जैसे कोई ख़ूबसूरत, जवान लड़की,
सज - सँवर गई है -
सर्दियों की मुँह दिखाई के लिए।
पश्मीने की हरी शॉल -
जिसपे दरवाज़े-मंदिर-मस्जिदों की मीनारें -
ज़रदोज़ी सी लगती हैं-
ओढ़ रक्खी है उसने।
पहन रक्खा है झीलों का हार,
जिसके बीच में वह बड़ी झील 
चमकती है कोहिनूर की तरह।
बेशकीमती है यह नगीना,
बेशकीमती है यह बूँदें, यह बारिश।
जिसमे मेरे शहर की रौनक ही कुछ और होती है।

कुछ और होती है मनमानी करने की फिदरत।
खुद ही उग जाते है पेड़-पौधे;
गाहे-बगाहे, बिना किसी से पूछे
दीवारों के बीच से।
छतों  पे पड़  जाती है सीलन
और काई भी जम जाती है।

बिजली के तारों पे लटकी वो बूँदें,
पीछे की स्ट्रीट लाइट में
पुखराज की सी लगती हैं।
नीचे गिरती हैं ये बूँदें,
झिलमिल - झिलमिल - झिलमिलाती हैं,
और बह जाती हैं 
वो कागज़ की कश्तियाँ लिए 
और उनके साथ लिए वो बचपन।

प्लास्टिक के, सीमेंट के, टीन  के 
शेडों पे, खपरैलों पे
बजती हैं ये बूँदें।
कई धुन, कई तालों में;
दिन रात बजते हैं ये साज़ 
और यूँ ही ख़यालों तक उतर जाती है 
मेरे शहर की बारिश।
जिस्म के साथ
रूह को भी तरबतर कर देती है
मेरे शहर की बारिश ।

वो बारिश जिसमे 
मेरे शहर की रौनक ही कुछ और होती है।
  

8 comments:

  1. Aapke shahar ka shabab hamesha bana rahe!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुदर लिखा है आपने। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. Lagta hai aapke dwara likhi gayee is sundar rachana ko aapke hee blog pe mai pahle padh chukee hun!

    ReplyDelete
  4. oh haan! Yahan to mera comment bhee hai!

    ReplyDelete
  5. अतिसुंदर दृश्य का आभास कराते हुए,लाजवाब रचना |बहुत खूब लिखा है आपने....

    मेरा ब्लॉग आपके इंतजार में.समय मिले तो बस एक झलक-"मन के कोने से..."
    आभार..|

    ReplyDelete
  6. Aapki barish men thandak bhi hai, kashish bhi, aur nami bhi. Is barish ka intzaar jab-tab rahega.

    ReplyDelete

  7. सुंदर शाब्दिक चित्रण

    ReplyDelete

  8. सुन्दर और सार्थक सृजन , बधाई.

    मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" पर आप सादर आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete